विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर एसएसजे विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग में हुई परिचर्चा

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा के भूगोल विभाग में एक परिचर्चा हुई जिसमें विभाग के सभी प्राध्यापकों ने प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में सर्वप्रथम विभाग के प्राध्यापक तथा कुलानुशासक डॉ दीपक द्वारा विभागाध्यक्ष डॉ ज्योति जोशी का पुष्प गुच्छ से अभिवादन किया गया। 

इस संदर्भ में डॉ अरविंद सिंह यादव ने कहा कि हम सिर्फ लेखन या सोशल मीडिया में ही इस बारे में बात न करें बल्कि वास्तव में भी इस गंभीर समस्या के विषय में सोचें। 

डॉ पूरन जोशी ने जाने-माने गाँधीवादी पर्यावरण विद् अनुपम मिश्र को कोट करते हुए कहा कि पर्यावरण संकट से लड़ने के लिये वास्तविक रणनीति की ज़रूरत है। अनुपम मिश्र जी ने ‘राजस्थान की रजत बूँदें’ जैसे कई किताबें लिखी हैं। 

विभागाध्यक्ष डॉ ज्योति जोशी ने अपनी बात रखते हुए कहा कि वैश्विक पर्यावरण आज बहुत नाजुक दौर से गुज़र रहा है। इस संकट को हम सब मिल कर कारगर कदम उठा कर दूर कर सकते हैं। 

इस अवसर पर डॉ नरेश पन्त, डॉ हिमानी और कुमारी सरिता पालनी उपस्थित थे।