अल्मोड़ा में पहली बार आयोजित हुआ ओपन-माइक किस्सागोई कार्यक्रम 

अल्मोड़ा, ईजा स्टूडियो के तत्वावधान में उदय शंकर संगीत और नृत्य एकेडमी, अल्मोड़ा में ओपन माइक- किस्सागोई कार्यक्रम का सफल आयोजन किया गया। कार्यक्रम में पिथौरागढ़, हवालबाग, हल्द्वानी, ओखलकांडा, मजखाली, अल्मोड़ा व कुमाऊँ भर की तीन दर्जन से अधिक युवा प्रतिभाओं ने अपनी प्रस्तुतियों से दर्शकों के मध्य समां बांधा। इस अवसर पर कविता, कहानी, लोकगीत, किस्सागोई आदि विधाओं के माध्यम से युवाओं ने पहाड़ की संस्कृति और परंपराओं को जीवंत किया।

कार्यक्रम का संचालन दिव्या जोशी व ज्योति पपोला ने किया। 

कार्यक्रम के आयोजक मनीष मेहता ने बताया कि यह शहर में अपनी तरह का पहला कार्यक्रम है। जल्द ही पहाड़ की संस्कृति व परंपराओं पर केंद्रित और भी कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने बताया कि इन कार्यक्रमों का उद्देश्य पहाड़ की संस्कृति का संरक्षण व पहाड़ के युवाओं को आगे लाना है।

कार्यक्रम में साहित्यकार त्रिभुवन गिरि, शिक्षक कल्याण मनकोटी, भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष कुंदन लटवाल, जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष ललित लटवाल ने युवाओं को संबोधित किया और उनका मार्गदर्शन किया। हर्षवर्धन, भूमिका पांडेय, कनक जोशी, आकांक्षा जोशी, डॉ. दीपा गुप्ता, ललिता रावत, हेमलता, गर्वित जोशी, भास्कर भौर्याल, सुमन बिष्ट, दीपिका गोस्वामी, नीरज पांगती आदि की रचनाओं को श्रोताओं ने सराहा। कार्यक्रम के संयोजन में अंकित जोशी, डॉ. पवनेश ठकुराठी, दीपक नगरकोटी, ललित तुलेरा, वीरेंद्र सिंह सिजवाली, हरीश कांडपाल, कमल जोशी, हिमांशु बनोला, ललित बिष्ट आदि ने सहयोग किया।