प्राधिकरण के विरोध में संघर्ष समिति का धरना जारी

जिला विकास प्राधिकरण को पूरी तरह समाप्त कर स्पष्ट रूप से भवन मानचित्र स्वीकृति का समस्त अधिकार नगरपालिका को देने की मांग को लेकर सर्वदलीय संघर्ष समिति ने गांधी पार्क में धरना दिया। इस अवसर पर समिति के संयोजक नगरपालिका अध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी ने कहा कि उत्तराखंड के दो मुख्यमंत्रियों के प्राधिकरण को समाप्त करने की घोषणा केवल बाद भी सरकार द्वारा केवल प्राधिकरण को स्थगित करने का शासनादेश जारी किया गया है जो मात्र जनता को भ्रमित करने की एक कोशिश है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस प्राधिकरण स्थगन के शासनादेश से आज जनता में भ्रम की स्थिति बनी हुई है। सरकार को शासनादेश में ये स्पष्ट करना चाहिए था कि प्राधिकरण को समाप्त किया गया है या केवल स्थगित किया गया है। जोशी ने कहा कि आज उन लोगों को बेहद दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है जो अपने भवन का निर्माण करना चाहते हैं। धरने में सभी वक्ताओं ने एकस्वर में सरकार से स्पष्ट मांग की है कि जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण को स्पष्ट आदेश के तहत पूरी तरह समाप्त करे तथा भवन मानचित्र स्वीकृति सम्बन्धी समस्त अधिकार नगरपालिका को वापस दे।

धरने में पालिकाध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी, कांग्रेस जिलाध्यक्ष पीताम्बर पाण्डेय, नगर अध्यक्ष पूरन सिंह रौतेला, उपपा की केन्द्रीय सचिव आनन्दी वर्मा, जया जोशी, लता तिवारी, अख्तर हुसैन, महेश आर्या, दीपांशु पाण्डेय, राजू गिरी, चन्द्रकान्त जोशी, हेम चन्द्र जोशी, शहाबुद्दीन, एम सी काण्डपाल, घनश्याम गुरूरानी, भगवान दुर्गापाल, ललित मोहन पन्त, नारायण दत्त पाण्डे, सभाषद हेम तिवारी सहित दर्जनों लोग उपस्थित रहे। इस अवसर पर पालिकाध्यक्ष प्रकाश चन्द्र जोशी ने कहा कि जिन विधायकों ने प्राधिकरण का मुद्दा सदन में उठाया है समिति उनका आभार व्यक्त करती है तथा भगवान से प्रार्थना करती है कि सरकार को सद्बुद्धि आये।